Share

क्या कहते है आपके सितारे ?

वैदिक ज्योतिष में राहु को छाया ग्रह कहा गया है। 7 मार्च 2019 को 7.48am पर राहु देव कर्क राशि से बुध की मिथुन राशि मे प्रवेश करेंगे और 22 सितंबर 2020 तक मिथुन राशि मे रहेंगे यह उनकी उच्च राशि हैं यहाँ पे राहु देव का सर्वाधिक कारकत्व लोगों के जीवन पर पड़ेगा ।यदि कुंडली में राहु मजबूत स्थिति में है तो यह व्यक्ति को जी राजनीतिक सफलताएं प्रदान करता है। सूचना तकनीक के क्षेत्र में काफ़ी सफलता दिलाने वाला होता हैं।इसके विपरीत यदि कुंडली में राहु की स्थिति प्रतिकूल है तो यह अनेक प्रकार की शारीरिक व्याधियां पैदा करता है। मुकदमा में वृद्धि और जेल योग ,स्थान परिवर्तनऔर कार्य में बाधाएं उत्पन्न करने वाला तथा दुर्घटनाओं का कारक माना जाता है। इसके अतिरिक्त राहु मानसिक तनाव, धन हानि और झूठ बोलने आदि का कारक भी होता है।आइये जानते हैं कि प्रत्येक राशि पर राहु देव का क्या प्रभाव पड़ेगा।

यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है।

मेष
राहु आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर करेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में तीसरा भाव पराक्रमका भाव होता है। राहु के तीसरे भाव में स्थिति आपके लिए शुभ परिणाम लेकर के आएगी। इसलिए गोचर की अवधि में आपको नौकरी में सफलता मिलेगी। यदि आप जॉब में परिवर्तन करना चाहते हैं तो नवम्बर 2019 सेआपकी यह मुराद भी पूर्ण होगी। इस गोचर की अवधि में आपको आर्थिक लाभ और मनोबल बढ़ा हुआ रहेगा ।जो लोग केन्ट्रक्शन ,सूचना, तकनीकी ,और फैशन इंडस्ट्री से जुड़े हैं उनके लिये यह गोचर अति शुभ परिणाम देने वाला सिद्ध होगा ।जनवरी 2020 से लेकर सितम्बर 2020 आपके जीवन का महत्वपूर्ण पुर्ण समय रहेगा इसमें आपको सर्वोच्च सफलता मिलेगी। जिनकी जन्म कुंडली मे राहु नीच या नीच अभिलाषी होंगे उनके लिए ये गोचर पत्नी के साथ वैचारिक मतभेद के साथ न्यूनतम लाभ का सामना करना पड़ सकता है।

उपायःराहु के अत्यधिक शुभ परिणाम के लिये अभियंत्रित श्री दुर्गा वीसा यन्त्र धारण करे ।


वृषभ
राहु आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेगा। कुंडली में दूसरा भाव धन और परिवार की विवेचना करता है। इस भाव में राहु का स्थित होना आपके लिए धन सम्बन्धित और आपके लाइफ पार्टनर के स्वास्थ्य को प्रभावित करेगा ।हो । इस दौरान आर्थिक क्षेत्र में आपको संभलकर क़दम बढ़ाने होंगे। क्योंकि इसमें धन हानि हो सकती है।वाणी पर संयम रखना आप के हिट में रहेगा ।विद्यार्थियों के लिये यह गोचर जो खास तौर से इंजीनियरिंग में एडमिशन की तैयारी कर रहे हैं उनके लिये अच्छे संस्थान दिलाने वाला सिद्ध होगा ।किसी ग़लतफ़हमी के कारण घर का माहौल बिगड़ सकता है। इस दौरान धैर्य का परिचय दें। गोचर के दौरान आपके ख़र्च में वृद्धि होगी और आपका मानसिक तनाव भी बढ़ सकता है। धन की बचत के लिए धन का ख़र्च सोच समझदारी के साथ करें। ऐसे में अपनी सेहत पर विशेष ध्यान दें, क्योंकि गोचर के दौरान आपके स्वास्थ्य में कमी आ सकती है। इसके अलावा इस अवधि मादक पदार्थो से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

उपायः आपको विवेक और सदबुद्धि के देवता गणपति जी की उपासना करनी चाहिए।साथ ही गणपति विघ्नहर्ता कवच धारण करना चाहिये।

मिथुन
राहु आपकी राशि में प्रवेश करेगा और यह आपके लग्न भाव में स्थित होगा। ज्योतिष के अनुसार लग्न भाव हमारे शरीर और व्यक्तित्व का भाव होता हैं इस भाव में राहु का स्थित होना मिला जुला परिणाम लेकर आ रहा । गोचर के प्रारमभ में स्वास्थ्य सम्बन्धित परेशानी खास तौर से ent रोग नाक,कान,और गला से सम्बंधित परेशानी रहेगी ।नवम्बर 2019 से स्वास्थ्य लाभ मिलेगा।नौकरी व्यवसाय में तरक्की के योग बनेंगे ।आपको अचानक निर्णय लेने से इस अवधि में बचना चाहिए ।राहु का गोचर बौद्धिक रूप से आपके लिए उत्तम रहेगा। छात्रों को पढ़ाई में सर्वोच्च समय रहेगा।। दोस्तों के साथ किसी बात को लेकर मनमुटाव हो सकता है। राहु के प्रभाव के कारण आप दूसरों पर राज करने की कोशिश भी करेंगे, जो आपकी छवि को नकारात्मक बना सकता है।

उपायः माता काली की आराधना करें।पंचमुखी रुद्राक्ष धारण करे ।

कर्क
राहु आपकी राशि से बारहवें भाव में संचरण करेगा। कुंडली में यह भाव व्यय का होता है इसलिए राहु के इस भाव में होने से आपके ख़र्चों में अधिक वृद्धि होगी। इस अवधि में आपके बेवजह के ख़र्चों की संख्या बढ़ जाएगा। हालाँकि गोचर के दौरान आप किसी विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। विदेश में रहने वाले जातकों के लिये राहु देव उनकी जीवन मे लग्जरी और ऎश्वर्य को बढ़ाने वाला सिद्ध होंगे । राहु के प्रभाव से आपके पारिवारिक जीवन में उतार-चढ़ाव भरा समय आएगा। आप के स्वास्थ्य ठीक रहेगा ।इसके अलावा उनके स्वभाव में भी परिवर्तन देखा जा सकता है। ग़ैर क़ानूनी कामों से दूर रहें अन्यथा आपको जेल की हवा खानी पड़ सकती है। नवम्बर 2019 से कार्यक्षेत्र में आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। जैसे- आपके कार्य में किसी प्रकार की रुकावट आ सकती है या सीनियर्स के साथ आपके रिश्ते बिगड़ सकते हैं।अगर आप व्यवसाय करना चाहते हैं तो सही समय है ।

उपायः महाकाली एवं भैरव देव की आराधान करें।

सिंह
राहु आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में जाएगा। कुंडली में लाभ का भाव होता है। इस भाव में राहु की स्थिति आपके लिए जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में लाभ और सुखद परिणाम लेकर आ रहाहैं। आपके जीवन में ख़ुशियाँ आएंगी। करियर में आचानक उछाल मिलेगा , सुनहरे अवसर भी प्राप्त होंगे। इस दौरान आपको किसी प्रकार की उपलब्धि हासिल हो सकती है।राजनीतिक लोगों से सम्बन्ध बनेगा कार्य में सफलता मिलेगी और विभिन्न क्षेत्रों से आपको लाभ प्राप्त होने की संभावना है।संतान को लेकर थोड़े परेशान रह सकते हैं। उनके स्वभाव में बदलाव आ सकता है। छात्रों को पढ़ाई में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। परिवार के साथ कहीं घूमने या फिर उनके के लिए मनोरंजन अवसर इस गोचर अवधि में अत्यधिक रहेगा। सामाजिक क्षेत्र में आपका रुतबा और मान-सम्मान बढ़ेगा, परंतु आपके इस वर्चस्व से कूछ नजदीकी लोग आप से अप्रसन्न रहेंगे ।छोटे भाई या कम उम्र के मित्र के स्वास्थ्य या कोई दुर्घटना पर आपको काफी ख़र्च करना पड़ सकता है।

उपायः अत्यधिक धन और पराक्रम वृद्धि के लिये गणेश जी की उपासना करें ।

कन्या
राहु आपकी राशि से दसवें भाव में गोचर करेगा। कुंडली में यह भाव कर्म एवं पद-प्रतिष्ठा का भाव होता है। इस भाव में राहु का स्थित होना आपके लिए नवंबर2019 के बाद प्रमोशन देने वाला और साथ ही नए अवसर प्रदान करने वाला सिद्ध होगा। आर्थिक क्षेत्र में आपको इस गोचर का फायदा होगा। आपके धन की बचत होगी और विविध स्रोतों से आपके पास धन आएगा।धनुपार्जन के लिये आप को किसी भी प्रकार के अनैतिक साधनो से बचना होगा नही तो धन के साथ आप की प्रतिष्ठा भी चली जाएगी साफ्टवेयर और सूचना तकनीकी मीडिया से जुड़े हुए जातको का यह गोचर वरदान साबित होगा ।। राहु के प्रभाव से माताजी की सेहत में कमी आ सकती है इसलिए उनके स्वास्थ्य का विशेष ख़्याल रखें। ऑफिस में कार्य की अधिकता रह सकती है जिसके कारण आप बिजी रहेंगे और आपके निजी जीवन पर भी इसका असर पड़ेगा, क्योंकि व्यस्तता के कारण आपके अपने निजी जीवन को कम समय दे पाएंगे।

उपायः आप सुखों में वृद्धि और नॉकरी व्यवसाय में सर्वोच्च सफलता के लिए पंचमुखी रूद्राक्षयुक्त भैरव यंत्र धारण करे ।

तुला
राहु आपकी राशि से नौवें भाव में गोचर करेगा। कुंडली में नौवां भाव भाग्य और धर्म के बारे में बताता है। इस भाव में राहु की स्थिति आपके गोचर के प्रारंभ में कुछ कमजोर लेकिन जनवरी 2020 से भाग्य प्रबल होगा। गोचर के प्रारंभ में इस दौरान आपके भाग्य का सितारा नहीं चमकेगा और इस कारण आपको आशानुरूप परिणाम नहीं मिल पाएंगे। इस दौरान आपको आर्थिक क्षेत्र में नुकसान हो सकता है। धन की लेनदेन में बड़ी सावधानी बरतें अन्यथा आपको धन की हानि हो सकती है। इस अवधि मे राहु आपके पारिवारिक जीवन को प्रभावित करेगा। इस दौरान आपके पिताजी की सेहत में गिरावट आने की संभावना है इसलिए उनके स्वास्थ्य की देखभाल करें अथवा पिता जी के साथ आपके रिश्ते बिगड़ सकते हैं। गोचर के दौरान आप किसी लंबी दूरी की यात्रा पर जा सकते हैं।

उपायः इस मंत्र का जाप करें: ॐ दुं दुर्गाय नमः !

वृश्चिक
राहु आपकी राशि से आठवें भाव में प्रवेश करेगा। कुंडली में आठवां भाव आयु का भाव होता है। राहु के इस भाव में उपस्थिति आपके लिए अनुकूल नहीं है। वाहन चलाते समय ट्रैफिक नियमों का ध्यान रखें अथवा तेज़ गति या फिर नशे आदि वाहन न चलाएं, अन्यथा किसी दर्घटना के कारण चोट लग सकती है। गोचर के दौरान अपनी सेहत का ख़्याल रखें। इस दौरान आपको परिवार में किसी सदस्य के विमारी में काफी धन ख़र्च करना पड़ सकता हैंपरिवार में आपसी ताल मेल की कमी रहेगी ।राहु का गोचर आपके आर्थिक क्षेत्र को भी प्रभावित करेगा। इस दौरान आपको अनचाही यात्रा ज्यादा करनी पड़ सकती है । सोच-समझकर धन ख़र्च करें। अनावश्यक वस्तुओं पर धन ज़ाया न करें। पारिवारिक जीवन में अपने लोगों का रुख़ा व्यवहार आपको तनाव दे सकता है। इस तनाव को अपने ऊपर हावी न होने दें, क्योंकि इसका असर आपके स्वास्थ्य पर भी पड़ेगा। दोस्तों में भी आपका विरोध हो सकता है।

उपायः आपको हनुमानजी जी की उपासना श्रेष्ठ रहेगी । आपको सफेद मूंगा धारण करना चाहिए

धनु
राहु आपकी राशि से सातवें भाव में संचरण करेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में सातवां भाव वैवाहिक जीवन ,तथा निजि व्यवसाय की विवेचना करता है। राहु का इस भाव में होने से आप नए व्यवसाय के लिये अग्रसर हो सकते हैं आपको व्यवसाय के लिये नवंबर तक इंतजार आप के हित मे होगा ।वैवाहिक जीवन में जीवनसाथी के साथ रिश्तों में खटास आने की संभावना है। इस परिस्थिति से बचने के लिए लाइफ़ पार्टनर पर किसी भी तरह का दबाव न बनाएं और उनकी भावनाओं को समझने का प्रयास करें। जीवनसाथी पर शक न करें बल्कि उनपर विश्वास करें। उधर, काम-धंधे राहु का प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। बिजनेस पार्टनर के साथ भी आपका मतभेत हो सकता है ।नौकरी के लिये समय शुभ हैं । पारिवारिक जीवन में धन अथवा पैतृक संपत्ति को लेकर विवाद सामने आ सकता है।हालांकि यह गोचर आपके स्वास्थ्य के लिये ठिक है ।

उपायः राहु-केतु की शांति के लिए अनुष्ठान करें।

मकर
राहु आपकी राशि से छठे भाव में गोचर करेगा। कुंडली में छठा भाव रोग, भय और क्षति का होता है। राहु के इस भाव में होना आपके लिए अच्छा है। इस दौरान आपको शुभ परिणामों की प्राप्ति होगी। जीवन में ख़ुशियों का आगमन होगा। करियर में आपको सफलता मिलेगी। नौकरी में प्रमोशन और आय में बढ़ोत्तरी की प्रबल संभावना है। अपने विरोधियों पर आप भारी रहेंगे। छात्रों के लिए यह समय अनुकूल रहेगा। यदि आप किेसी प्रतियोगी परीक्षाओं में भी आपको सफलता मिलने की प्रबल संभावना रहेगी। काफी दिनों के संघर्स के बाद अब आपके रुके हुए कार्य सिद्ध होने लगेंगे । बैंक में लोन के लिए आवेदन किया है तो आपका लोन पास हो जाएगा। पुरानी बीमारियों से भी आपको छुटकार मिलेगा और आपको स्वास्थ्य लाभ मिलेगा। राजनीति क्षेत्र में प्रबल सफलता मिलने के योग हैं। क़ानूनी मामलों में भी आप सफल रहेंगे।

उपायः राहु यंत्र में गोमेद धारण करना आपका कार्य सिद्ध करने वाला होगा ।

कुंभ
राहु आपकी राशि से पाँचवे भाव में जाएगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में पाँचवा भाव बुद्धि, विद्या एवं संतान को दर्शाता है। राहु ग्रह के पंचम में गोचर से आपको आकस्मिक लाभ मिलेगा ,आय में वृद्धि होगी ।हालकि संतान से समन्धित मामलो में निराशा प्राप्त होगी पेट से सम्बंधित रोग आपको परेशान कर सकते हैं ।पैसों लेनदेन अथवा निवेश बहुत सोच-समझकर करें अन्यथा आपको धन हानि हो सकती है। प्रेम जीवन में प्रियतम के साथ विवाद हो सकता है। इस परिस्थिति से बचने के लिए लव पार्टनर की भावनाओं को समझें और उन्हें उनके हिस्से का पूरा समय दें। बौद्धिक रूप से भी आपको इसका ज़्यादा लाभ नहीं मिलेगा। छात्रों को पढ़ाई में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। परीक्षा में सफलता पाने के लिए उन्हें कठिन परिश्रम करना पड़ेगा।

उपायः किसी गरीब को काली दाल का दान करें।
काला हकीक धारण करना अच्छा रहेगा ।

मीन
राहु आपकी राशि से चौथे भाव में संचरण करेगा। कुंडली में चौथा भाव माता, सुख, वृद्धि और पब्लिक समाज से सम्बंधित हैं। राहु के इस भाव में होना आपके लिए कष्टकारी हो सकता है। पारिवारिक जीवन में राहु का प्रभाव आपकी माताजी के स्वास्थ्य को कमज़ोर कर सकता है। इस दौरान आपको उनकी सेहत का विशेष ख़्याल करना होगा। कार्यक्षेत्र में आपको काम का बोझ रहेगा। काम की व्यस्तता के कारण आपको निजी जीवन के लिए थोड़ा कम समय मिलेगा। अनेक चुनौतियों और परेशानियों के कारण आपको मानसिक तनाव भी रह सकता है। किसी चीज़ पर ध्यान लगाने में भी आपको कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। धन से सम्बंधित मामलों के लिए ठीक समय है।

उपाय : कुशोदक जल से भगवान शिव का अभिषेक करें ।

अपनी कुंडली के सम्पूर्ण विवेचन के लिये आप हमें कॉल कर के सम्पर्क कर सकते हैं।मो.न.8859319636

Spread the love
  • 9
    Shares

Leave a Comment