Share

यूपी पुलिस अब इस एप्लीकेशन से कसेगी अपराधियों पर लगाम

उत्तर प्रदेश में अपराध एक बड़ी समस्या के रूप में उभरा है। पुलिस प्रशासन के तमाम बेहतरीन प्रयासों के बावजूद अपराध में कमी देखने को नहीं मिल रही। इसी के चलते अब उत्तर प्रदेश पुलिस ने एक एप्लीकेशन लॉन्च की है, जो अपराध को प्रभावी रूप से नियंत्रित करने में मदद करेगी। यूपी पुलिस ने इस एप को ‘त्रिनेत्र’ नाम दिया है, जो डिजिटल तरीके से अपराध को काबू में रखेगा।

इस तरह से खास है ‘त्रिनेत्र’

पुलिस ने अपराधियों से निपटने के लिए खुद को डिजिटल रूप से तैयार कर लिया है। बताया जा रहा है कि इस एप्लीकेशन में 05 लाख के करीब अपराधियों का डेटा मौजूद है, जिसे जरूरत के वक्त एक्सेस किया जा सकता है। त्रिनेत्र में आर्टिफिशल इंटेलिजेंस, फेस पहचान तकनीक (फेस रिकिग्नेशन) आदि खूबियां मौजूद हैं, जो अपराधियों की पहचान में काफी मदद कर सकती है। इस एप्लीकेशन में पुलिस, जेल विभाग और रेल सुरक्षा करने वाली राजकीय रेलवे पुलिस के रिकॉर्ड्स भी रखे गए हैं।

तुरंत होगी अपराधी की पहचान

एक पुलिस अधिकारी के अनुसार एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि फेस पहचान तकनीक, बायॉमीट्रिक रेकॉर्ड, फनेटिक सर्च, टेक्स्ट सर्च, आर्टिफिशल इंटेलिजेंस जैसी तकनीकी की मदद से पुलिसकर्मियों को तत्काल अपराध की प्रकृत्ति समझने में आसानी होगी। फेस पहचान तकनीक (फेस रिकिग्नेशन) की मदद से अपराधियों की तुरंत पहचान हो जाएगी। इससे ड्यूटी पर ही पुलिसकर्मियों को अपराधियों को पहचानने में मदद मिलेगी। इसमें अपराधियों के फिंगरप्रिंट व वॉयस सैंपल भी सेव हैं।

जल्द ही सभी थानों को मिलेगी एप्लीकेशन

अभी यह एप्लीकेशन पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को उनके फोन पर उपलब्ध कराई गई है। जल्द ही इसे अन्य थानों व अधिकारियों को उपलब्ध कराया जाएगा। पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया कि एक विशेष टीम इस ऐप को समय-समय पर अपडेट करेगी, जिससे नए अपराधियों का डाटा अपडेट होता रहेगा।

Spread the love

Leave a Comment